गीता प्रवचन (Talks on Gita - Hindi - Hard Bound)

filler

गीता प्रवचन श्री 'विनोबा' भावे द्वारा संकलित की गई वार्ताएँ हैं, जिन्हें  भारत के राष्ट्रीय शिक्षक के रूप में जाना जाता है। ये वार्ताएँ उनके स्वतंत्रता-संग्राम के दौरान जेल में लिखी गई थीं जो भगवद्गीता से बहुत प्रभावित थीं। उनका स्वप्न था कि सम्पूर्ण समाज के लिए एक आध्यात्मिक आधार बनाया जाए। वे कहते हैं, "यह संसार शायद मेरे द्वारा दी गई सभी सेवाओं को भूल जाए लेकिन इन दोनों को कभी नहीं भूलेगा। ‘गीताई’ लिखते समय और गीता पर वार्ता देते समय मैं सम्पूर्ण समाधि  की अवस्था में था। इसलिए मुझे लगता है कि ये कृतियाँ मानव-जाति की सेवा करती रहेंगी।"

इन वार्ताओं में हमें दैनिक जीवन की व्यावहारिकता के प्रति आध्यात्मिक दृष्टिकोण देखने को मिलता है। अतः वे आज भी प्रासंगिक हैं और भविष्य में भी लोगों  के जीवन को रूपांतरित करती रहेंगी।

*Pre-Order Now for Hindi* 

Price:
Sale priceRs. 399.00

Customer Reviews

Based on 6 reviews Write a review

You may also like

Recently viewed